उमंग उत्साह के पंखों से उड़िऐ (Fly with the Wings of Zeal and Enthusiasm in Hindi)

उमंग उत्साह के पंखों से उड़िऐ

Woman with butterfly wings flying on fantasy sea sunset, relaxation meditation concept

आध्यात्मिक ज्ञान के अनुसार; विघ्नों को तोड़ने में समय व्यर्थ करने के बजाय बस उन्हें उड़ कर पार कर लें!

कभी कभी, हम ‘शिलाखंडों’ और ‘पत्थरों’ को तोड़ने में बहुत समय और ऊर्जा गवाँ देते हैं जबकि असल में हमें उनके पास से गुज़रना था, उनसे पार चले जाना था या स्वयं को उनके पार ले जाना था । शायद हमें अपनी विचारधारा को बदलने की आवश्यकता है, अपने दृष्टिकोण को बदलें और जो समस्या एक पहाड़ जैसी अनुभव होती थी वह राई जैसी लगेगी । इस रीति से हम समस्या के ऊपर से ‘उड़’ सकते हैं ।

जब हमारी विचारधारा में कुछ बात ए‍क समस्या है तो हम ऊर्जा और आशा गवाँ देते हैं । जब हम उमंग उत्साह की भावना उत्पन्न करते हैं तो हम सहजता से नकारात्मक और निर्बल बनाने वाले विचारों को मिटा सकते हैं और जो कुछ होना चाहिऐ वह प्राकृतिक रूप से हो जाता है ।

आईंस्टाईन की प्रसिद्ध कहावत इस प्रकार है, आप किसी समस्या को उसी चेतना से नहीं सुलझा सकते जिस चेतना से उसकी उत्पत्ति की गई थी । उस चेतना में, हम अक्सर एक ही विचार के साथ अटक जाते हैं, ‘यह एक समस्या है’ और इसलिए समाधान बहुत दूर है । एक अलग प्रकार की विचारधारा के साथ और उमंग उत्साह से हम एक परिस्थिति को समस्या के रूप में न देखकर खेल की तरह या चुनौति के रूप में देखते हैं जिस पर हमें विजय प्राप्त करनी है । अगर हम तैयार हैं और हमारा हृदय विशाल हैं तो समाधान और अधिक आसानी से हो जाऐगा ।

उड़ने का यह अर्थ नहीं है कि एकदम से पंख उग जाऐं और हम उड़ने लगें! आपको निराश करने के लिए माफी चाहती हूँ! पंख उमंग उत्साह के प्रतिकात्मक है, आत्मा को क्या करना है यह बोध होने के बाद यह प्रकट होते हैं । ये उर्जा एक बल की तरह कार्य करती हैं जिससे मनुष्य उड़ान भर सकता है । इस प्रकार उड़ कर सारे कार्य कर देता है – सुपरमैन की तरह!

Portrait of young businessman with toy paper wings. Success, creative and startup concept. Copy space for your text

उमंग उत्साह वे विशेषताऐं हैं जिनका सम्बन्ध हम से है, ये आत्मा के भीतर नीहित हैं, बस समय समय पर उनको सुलगाने की आवश्यकता है । शरीर की मांसपेशियों की तरह इन्हें स्वस्थ और विकसित करने के लिए व्यायाम की आवश्यकता है ।

अमरीका के उद्योगपति चार्लस स्कवाब, जो कि एक गरीब पृष्ठभूमि से थे परन्तु बाद में उन्होंने यूएस स्टील कोरपोरेशन की स्थापना की, ने कहा है: ‘आप किसी भी बात में सफलता प्राप्त कर सकते हैं अगर आपमें बेहद उमंग उत्साह है’ ।

इन्थ्यूज़ियाज़म (उमंग उत्साह) ग्रीक भाषा के दो शब्दों के मेल से बना है – ‘इन’ और ‘थियोस’ जिनको मिला कर अर्थ निकलता है ‘भगवान में’ । जब हम भगवान से या भगवान की सकारात्मक और दिव्य अच्छाई से जुड़े होते हैं तो उमंग उत्साह में रहना बहुत सहज होता है ।

coku&sevin

जब हम किसी बात के बहुत विस्तार में अटक जाते हैं, हमारा सारा ध्यान उसी बात में उकाग्र हो जाता है जिस कारण हम अपना उमंग उत्साह को खो सकते हैं । हमारा दृष्टिकोण अटक जाता है और स्थिर बन जाता है । हम बहुत उदास हो जाते हैं और उस बात से ग्रसित हो जाते हैं जो हमारी ऊर्जा को खींच लेती है । प्रबंधन में भी अगर हम एक ही क्षेत्र पर या बात के एक ही पहलू पर अधिक एकाग्र हो जाते हैं तो हम उस बात के सम्पूर्ण ज्ञान से वंचित हो जाते हैं ।

दूसरी और जब हम सड़क पर गाड़ी चला रहे होते हैं तो हमारा ध्यान सामने एकाग्र होता है, यह भी आवश्यक है कि उसी समय हम इस बात पर भी ध्यान रखें कि हमारे आसपास क्या हो रहा है । ‘बड़ी’ तस्वीर को समझने के लिए सतही दृष्टि की आवश्यकता है । यह हमेशा अच्छा रहता है कि जो कुछ भी हमारे सामने घटित हो रहा है उससे हम थोड़े तटस्थ रहें ताकि हम सारी परिस्थिति को समझ सकें । हमें बड़ा और विस्तृत दृश्य दिखाई देगा ।

Words illustration of a person doing meditation in white background.

हम अक्सर उड़ने के सपने देखते हैं । जब बच्चे थे तो अस्थाई पंख लगाकर दीवारों से और मेजों से छलाँग लगाते थे! किसको उड़ना पसंद नहीं है वह चाहे हवाई जहाज़ हो, ग्लाईडिंग या पैरासैलिंग । उड़ने से स्वतंत्रता, खुशी और आनंद की महसूसता होती है । छुट्टियाँ बिताने जैसा एहसास होता है । ए‍क एहसास जिसमें कुछ कठिन कार्य करना नहीं पड़ता, बल्कि ऐसा लगता है कि सहजता से और बिना किसी मेहनत के कहीं पहुँच गऐ ।

ऐसे ही, जब हम अपनी स्मृति को श्रेष्ठ बनाते हैं तो हम अपने उमंग उत्साह को बढ़ाते हैं, उसके बाद जीवन सरल हो जाता है । हम खुश और हल्के रहते हैं । हम अपने संसार में समस्याओं से ‘ऊपर’ रहते हैं, उसके बजाय हम जीवन रूपी खेल खेल रहे हैं । और खेलों में तो मज़ा आता है!

अब समय है… उड़ने का! सभी विघ्नों से ऊपर उठ जाईए और बड़ी तस्वीर का अवलोकन करिऐ ।

Listen to the Audio in English (Music by Deepak Ram)

 

© ‘It’s Time…’ by Aruna Ladva, BK Publications London, UK

 

Join the "It's Time to Meditate" Blog and get these
weekly blog posts sent to your email
Your email is safe with us and we will not share it with anyone else, you can unsubscribe easily
at any time

Leave a Reply

XHTML: You can use these tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>